1बस एक तमन्ना है मेरी


बस एक तमन्ना है मेरी ,

क्या कर दोगे वो तुम पूरी,

मैं चाहूं गर सोना,

हो अमन का बिछौना ,

चैन की हो चादर,

सुकून का हो तकिया ,

चांदनी की हो चँवर,

हवाएँ हो ठंडी, न सपने बुरे हो,

ना हो नींदों में आहें ,

ना बेबसी की हो सिसकी ,

ना  निराशा घनेरी ,

ये भी पढ़े : मुझ मे है तू !!

 जब खुले आँख मेरी ,

हो सूरत बस तेरी,

उम्मीद का हो आँगन,

 प्यार का हो उजाला,

 सपनों की हो नगरी,

 बस ये तमन्ना है मेरी,

क्या कर दोगे इसको पूरी।

ये भी पढ़े : इश्क की फ़रियाद

Facebook Comments