Recruitment of 1734 posts of Daroga in Bihar Police | The Bihar News
Recruitment of Daroga in Bihar Police | The Bihar News

अच्छी ख़बर : बिहार पुलिस में आठ साल बाद दारोगा के 1734 पदों पर होगी बंपर भर्ती

बिहार पुलिस में जल्द दारोगा के 1734 पदों पर बहाली होगी। पुलिस मुख्यालय ने रिक्तियों के आधार पर इनमें से 1717 पदों के लिए हाल में गठित बिहार पुलिस अवर सेवा आयोग को अधियाचना भेजने की तैयारी पूरी कर ली है। बाकी के 17 पद खेल कोटे से भरने के लिए आरक्षित होंगे।

लिखित परीक्षा में सिर्फ वस्तुनिष्ठ प्रश्न

दारोगा बहाली के लिए सामान्य श्रेणी के अभ्यर्थियों को कम से कम 40 प्रतिशत नम्बर लाना अनिवार्य होगा। तभी वह क्वालीफाई कर सकेंगे। वहीं अत्यंत पिछड़ा वर्ग और पिछड़ा वर्ग के अभ्यर्थियों के लिए यह 35 प्रतिशत निर्धारित किया गया है। अनुसूचित जाति एवं जनजाति के लिए क्वालिफाइंग नम्बर 33.5 प्रतिशत रखा गया है। दारोगा बहाली के मापदंड में किए गए बदलाव के तहत अब लिखित परीक्षा में केवल वस्तुनिष्ठ प्रश्न ही पूछे जाएंगे। पहले विषयनिष्ठ प्रश्न भी पूछे जाते थे। प्रारंभिक और मुख्य, दो लिखित परीक्षाएं होंगी। जितने पद होंगे उसके बीस गुना अभ्यर्थियों का चयन मुख्य परीक्षा के लिए होगा।

प्रारंभिक परीक्षा में सौ वस्तुनिष्ठ प्रश्न होंगे। हर सवाल दो अंक के होंगे।

यह भी पढ़े: बिहार कोचिंग एक्ट कागजों में सिमट कर रह गई, न तो सरकार तत्पर और न ही कोचिंग संस्थान गंभीर

मुख्य परीक्षा में दो पेपर

मुख्य परीक्षा में दो पेपर होंगे। पहला हिन्दी का, जिसमें सौ सवाल होंगे। प्रत्येक सवाल के सही उत्तर के लिए दो नम्बर मिलेंगे। यानी कुल दो सौ अंकों की यह परीक्षा होगी। इसमें कम से कम 30 प्रतिशत नम्बर लाना अनिवार्य होगा। दूसरा पेपर सामान्य ज्ञान समेत अन्य विषयों का होगा। इसके भी सभी प्रश्न वस्तुनिष्ठ होंगे और प्रत्येक प्रश्न के लिए दो अंक होंगे। हालांकि, इसमें निगेटिव मार्किंग की व्यवस्था होगी। हर गलत उत्तर पर 0.02 नम्बर काट लिए जाएंगे। यानी पांच गलत उत्तर पर एक अंक कम हो जाएगा।

लिखित परीक्षा के आधार पर शारीरिक परीक्षा के लिए पद से छह गुना ज्यादा अभ्यर्थियों का चयन होगा।

आठ साल बाद होगी दारोगा की बहाली

दारोगा के पद पर बिहार में इससे पहले 2009 में बहाली हुई थी। हालांकि, इसके लिए विज्ञापन 2004 में निकाला गया था। शुरू में 1510 पदों के लिए बहाली निकाली गई थी। बहाली प्रक्रिया और प्रशिक्षण पूरा कर इनकी नियुक्ति 2009 में थानों और विभिन्न पुलिस यूनिटों में हुई थी। हालांकि, बाद में रिक्तियां बढ़कर करीब 2100 हो गईं। कोर्ट के आदेश पर बाद में भी बहाली की गई।

यह भी पढ़े: अच्छी ख़बर : कटिहार से दिल्ली वाया सहरसा दौड़ेगी राजधानी, मंत्रालय की हरी झंडी