डेढ साल का मासूम छत पर अकेले खेल रहा था, अचानक पानी भरे बाल्टी में झांकने लगा और फिर….

दानापुर प्रखंड के चौधराना मुहल्ले में मंगलवार को डेढ़ वर्षीय मासूम की मौत पानी से भरी बाल्टी में गिरने से हो गई। बच्चे की मौत की खबर लगते ही घर में कोहराम मच गया।

परिजनों ने बताया कि विकास राय का डेढ़ वर्षीय इकलौता पुत्र आयुष कुमार अपने घर की छत पर अकेला खेल रहा था। खेलते-खेलते वह छत पर पानी से भरे एक बाल्टी के पास चला गया। बाल्टी में झांकने के दौरान आयुष उसमें औंधे मुंह गिर पड़ा। जब आयुष को खोजते हुए उसकी मां आरती देवी छत पर आयी तो उसकी नजर बाल्टी में औंधे मुंह गिरे आयुष पर पड़ी। इसके बाद वह चित्कार करते हुए मासूम को बाल्टी से बाहर निकाली। परिजन आनन-फानन में उसे अनुमंडलीय अस्पताल लेकर पहुंचे जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। बच्चे के पिता मजदूरी करते हैं।

इससे पूर्व 6 अप्रैल 2017 को मनेर के बालूपर गांव में बाल्टी में डूबकर 14 माह के बच्चे की मौत हो गयी थी। घटना गांव के राजेश्वर राय के घर हुई थी। आज की घटना की ही तरह बच्चा सीढ़ियां चढ़कर छत पर पहुंचा और वहां रखी पानी भरी बॉल्टी में गिर गया था। डूबने से उसकी मौत हो गयी थी।
अंकित की मां शोभा घर के दरवाजे पर पड़ोस की महिलाओं से बातचीत कर रही थी। वहीं पर अंकित खेल रहा था। तभी मासूम अंकित खेलते-खेलते सीढ़ी चढ़ते हुए छत पर पहुंच गया। इस बीच मां को बच्चे के छत पर जाने का पता नहीं चला। अंकित छत पर रखी बाल्टी के पानी से खेलने लगा। पानी में हाथ बढ़ाते-बढ़ाते वह बाल्टी में गिर गया। फिर डूबकर मौत हो गयी। घटना के बाद वार्ड आठ में रहने वाले अंकित के पिता प्रमोद और उनकी मां शोभा देवी का रो-रो कर बुरा हाल है। पिता प्रमोद मजूदरी करता है।