भारतमाला योजना: बिहार में बनेंगी 1432Km नई सड़के

भारतमाला योजना के तहत बिहार में 1432 किलोमीटर नई सड़कें बनेंगी। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार द्वारा बुलाई गई पथ निर्माण विभाग की समीक्षा बैठक में केन्द्र सरकार की उक्त योजना पर विस्तृत चर्चा हुई। इस योजना के तहत देश भर में 35 हजार किलोमीटर नई सड़कें बननी हैं। भारतमाला योजना के तहत मोहनियां-आरा और रजौली-बख्तियारपुर सड़क के साथ-साथ इंटर कॉरिडोर के तहत औरंगाबाद-दरभंगा, सासाराम-पटना, पटना-हाजीपुर-मुजफ्फरपुर, अन्य फीडर सड़कों में सोनवर्षा-रक्सौल, मुजफ्फरपुर-बेगूसराय-पटना साहिब, मुजफ्फरपुर-साहेबगंज, छपरा-पटना, चकिया-बैरगिनिया, अररिया-सुपौल आदि सड़कों का निर्माण होना है।

मुख्यमंत्री ने एक अणे मार्ग स्थित विमर्श में आयोजित इस समीक्षा बैठक में विभिन्न सड़कों के निर्माण को लेकर आवश्यक दिशा-निर्देश दिए। पथ निर्माण विभाग के प्रधान सचिव अमृत लाल मीणा ने मुख्यमंत्री को पटना और उसके आस-पास चल रहे 15 बड़े प्रोजेक्ट की विस्तृत जानकारी दी। पुनपुन से मीठापुर तक एलिवेटेड सड़क बनेगी बैठक में पटना-गया रोड के तहत पुनपुन से मीठापुर की तरफ आने वाली सड़क (रेलवे लाइन के समानान्तर) को एलिवेटेड बनाने पर भी विस्तार से चर्चा हुई। इसको लेकर आवश्यक निर्देश मुख्यमंत्री ने दिया।

मीठापुर फ्लाई ओवर को चिरैयाटांड़ फ्लाई ओवर वाया करबिगहिया को जोड़ने वाले फ्लाई ओवर, एप्रोच पथ सहित नाली की व्यवस्था पर विशेष ध्यान देने का निर्देश मुख्यमंत्री ने दिया। साथ ही विभिन्न सड़क निर्माण योजनाओं पर भी चर्चा की गयी। चर्चा के क्रम में मुख्यमंत्री ने सभी सड़कों के बेहतर रखरखाव का निर्देश दिया।

सड़कों की निरंतर समीक्षा का निर्देश : मुख्यमंत्री ने स्टेट हाइवे सहित अन्य सड़कों को आउटपुट एंड परफार्मेंस बेस्ड रोड एसेट मेंटेनेंस कॉन्ट्रैक्ट (ओपीआरएमसी) में डालने के लिए सभी संबंधित अधिकारियों को कहा, ताकि उनका बेहतर ढंग से रख-रखाव किया जा सके। उन्होंने सड़कों की स्थिति की निरंतर समीक्षा कराने को कहा। पटना के बेलीरोड पर बने रहे राम मनोहर लोहिया पथ चक्र पर भी विस्तृत चर्चा हुई। पथ चक्र का विडियो प्रेजेंटेशन मुख्यमंत्री के समक्ष दिया गया। मुख्यमंत्री ने कहा कि पथ चक्र के निर्माण के क्रम में पटना मेट्रो के एलायनमेंट को ध्यान में रखें।

मुख्यमंत्री को एलिवेटेड पथ का मॉडल भी दिखाया गया। उन्होंने कहा कि पथ निर्माण विभाग की जो सड़कें हैं, उनका बेहतर रखरखाव करना है, इससे जनता को आवागमन में सुविधा होगी। समीक्षा बैठक में उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी, पथ निर्माण मंत्री नंदकिशोर यादव, विकास आयुक्त शिशिर सिन्हा, पथ निर्माण के प्रधान सचिव अमृत लाल मीणा आदि मुख्य रूप से उपस्थित थे।